Wednesday, November 20, 2019

न्यूज़ अलर्ट
1) खूंखार आतंकी बगदादी की मौत को लेकर ट्रंप ने बोला झूठ? ताजा रिपोर्ट्स में नए खुलासे से मची खलबली.... 2) बैन झेलने के बाद Lionel Messi की अर्जेंटीना फुटबॉल टीम में हुई वापसी.... 3) येस बैंक को सितंबर तिमाही में हुआ 629 करोड़ रुपये का एकीकृत घाटा.... 4) महाराष्‍ट्र में सरकार गठन पर बोले शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, लोगों को जल्‍द ही पता चल जाएगा कि....... 5) कांग्रेस का दावा, WhatsApp स्पाइवेयर के जरिए प्रियंका गांधी का फोन भी किया गया हैक.... 6) बीच पर छठ पूजा देखने पहुंचे ऋतिक रोशन.... 7) अनु मलिक पर एक बार फिर लगे यौन उत्पीड़न के आरोप, नेहा भसीन ने कहा ‘दरिंदा'....
आरटीआई का इस्तेमाल कम करने की जुगाड़ में मोदी सरकार, अमित शाह ने इशारों-इशारों में बताया प्लान
Saturday, October 12, 2019 - 9:28:27 PM - By न्यूज डेस्क

अमित शाह
सूचना का अधिकार कानून को लेकर मोदी सरकार की मंशा पर पहले ही कार्यकाल से सवाल उठते रहे हैं। लेकिन अब नई सरकार के गृह मंत्री अमित शाह के ताजा बयान से स्पष्ट संकेत मिल गया है कि मोदी सरकार भविष्य में आरटीआई आवेदनों को कम करने की योजना पर काम कर रही है। शनिवार को एक कार्यक्रम में अपने भाषण में अमित शाह ने कहा कि मोदी सरकार एक ऐसा तंत्र लाना चाहती है, जिससे लोगों को सूचना पाने के लिए आरटीआई आवेदन दाखिल करने की जरूरत ही महसूस न हो।

केंद्रीय सूचना आयोग के 14वें वार्षिक सम्मेलन को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि उनकी सरकार पब्लिक डोमेन में अधिक से अधिक जानकारी उपलब्ध कराएगी, जिससे आरटीआई के तहत आवेदन देने की जरुरत ही नहीं पड़ेगी। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि अमित शाह ने कहा कि आरटीआई आवेदनों की संख्या कम होने का अर्थ है कि सरकार का काम संतोषप्रद है। उन्होंने कहा कि आरटीआई आवेदन का अधिक होना किसी सरकार की सफलता को नहीं दर्शाता है।
इसके लिए मोदी सरकार के प्लान की तरफ इशारा करते हुए गृह मंत्री ने कहा कि मोदी सरकार की ‘डैशबोर्ड’ प्रणाली से यह सुनिश्चित हुआ है कि बिना आरटीआई दायर किए सराकरी योजनाओं की जानकारी ऑनलाइन सभी को मिल सके। उन्होंने कहा कि इस प्रणाली के उपयोग के साथ ही उनकी सरकार ने एक नये पारदर्शी युग की शुरुआत की है।

हालांकि, अपने भाषण में अमित शाह ने आरटीआई की वकालत करते हुए ये भी कहा कि उनकी सरकार कामकाज में पारर्दिशता सुनिश्चित करने के लिए कानून से भी दो कदम आगे निकल गई है।