Wednesday, November 20, 2019

न्यूज़ अलर्ट
1) खूंखार आतंकी बगदादी की मौत को लेकर ट्रंप ने बोला झूठ? ताजा रिपोर्ट्स में नए खुलासे से मची खलबली.... 2) बैन झेलने के बाद Lionel Messi की अर्जेंटीना फुटबॉल टीम में हुई वापसी.... 3) येस बैंक को सितंबर तिमाही में हुआ 629 करोड़ रुपये का एकीकृत घाटा.... 4) महाराष्‍ट्र में सरकार गठन पर बोले शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, लोगों को जल्‍द ही पता चल जाएगा कि....... 5) कांग्रेस का दावा, WhatsApp स्पाइवेयर के जरिए प्रियंका गांधी का फोन भी किया गया हैक.... 6) बीच पर छठ पूजा देखने पहुंचे ऋतिक रोशन.... 7) अनु मलिक पर एक बार फिर लगे यौन उत्पीड़न के आरोप, नेहा भसीन ने कहा ‘दरिंदा'....
RBI ने लगातार 5वीं बार घटायी रेपो रेट, अब और सस्ते होंगे आपके लोन और घटेगी EMI
Friday, October 4, 2019 1:29:24 PM - By न्यूज डेस्क

प्रतीकात्मक चित्र
कमजोर पड़ती आर्थिक वृद्धि को बढ़ाने के लिए रिजर्व बैंक ने शुक्रवार को प्रमुख नीतिगत दर रेपो में 0.25 प्रतिशत की और कटौती कर दी. इस कटौती के बाद रेपो दर 5.15 प्रतिशत रह गयी है. रेपो दर में इस वर्ष में यह लगातार पांचवीं कटौती की गयी है. आरबीआई ने रेपो रेट में 25 बेसिस पॉइंट्स की कटौती की है.

बैंकों का कर्ज होगा सस्ता

इस कटौती से बैंकों का कर्ज और सस्ता होने की उम्मीद बढ़ी है. चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर कमजोर पड़कर पांच प्रतिशत रह गयी. यह पिछले छह साल का निचला स्तर है. देश-दुनिया में लगातार कमजोर पड़ती आर्थिक वृद्धि की चिंता करते हुये रिजर्व बैंक ब्याज दरों में कटौती पर जोर दे रहा है ताकि ग्राहकों को बैंकों से सस्ता कर्ज मिले और आर्थिक गतिविधियों में तेजी आये.रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की तीन दिन चली बैठक के तीसरे दिन शुक्रवार को बैंक ने रेपो दर को 5.40 प्रतिशत से घटाकर 5.15 प्रतिशत कर दिया.

क्या है रेपो रेट

रेपो दर वह दर होती है जिस पर रिजर्व बैंक दूसरे वाणिज्यक बैंकों को उनकी फौरी जरूरतों के लिए नकदी उपलब्ध कराता है. इस नकदी की लागत कम होने से बैंकों को सस्ता धन उपलब्ध होता है जिसे वह आगे अपने ग्राहकों को उपलब्ध कराते हैं. रेपो दर में 0.25 प्रतिशत की इस कटौती सहित इस साल रिजर्व बैंक रेपो दर में कुल मिलाकर 1.35 प्रतिशत की कटौती कर चुका है. रिजर्व बैंक ने इसके साथ ही चालू वित्त वर्ष के लिए सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में वृद्धि दर के अनुमान को भी 6.9 प्रतिशत से घटाकर 6.1 प्रतिशत कर दिया है.

इस कटौती के बाद रीपो दर 5.40% से घटकर 5.15% पर आ गई है, जो साल 2010 के बाद सबसे कम है. आरबीआई के इस कदम से आपकी ईएमआई पर सीधा असर पड़ेगा, वह और घटेगी. विशेषज्ञों का मानना था कि अर्थव्यवस्था की रफ्तार तेज करने और निवेश को प्रोत्साहन देने के लिए ब्याज दरों में कटौती जरूरी है. इसको देखते हुए रिजर्व बैंक ने आज नीतिगत दरों में एक और कटौती की है.